भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान आइआइटी दिल्ली ने 1948 में बनी एक बीटल कार को बदला इलेक्ट्रिक कार में

नई दिल्ली भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान -दिल्ली (आइआइटी दिल्लीने बीटल कार को इलेक्ट्रिक कार में बदला है। आइआइटी दिल्ली पदाधिकारियों ने बताया कि 1948 में बनी एक बीटल कार को इलेक्ट्रिक कार में बदला गया है। एक बार फुल चार्ज करने पर यह 70 किलोमीटर तक चल सकती है। हालांकिजरूरत के हिसाब से बड़ी या छोटी बैटरी लगवाई जा सकती है। इस परियोजना के समन्वयक हेमंत कौशल ने बताया कि पेट्रोल या डीजल कार को इलेक्ट्रिक कार में तब्दील करने में करीब महीने का वक्त लगता है। इसकी लागत से लाख रुपये तक है। वहींआइआइटी दिल्ली के निदेशक प्रोवी रामगोपाल राव ने कहा कि पिछले 50 सालों में हमने प्रदूषण से जलवायु को हो रहे नुकसान को देखा है। अब समय आ गया है कि इसको रोका जाए और प्रदूषण के खिलाफ अन्य विकल्पों पर काम किया जाए। इलेक्ट्रिक वाहन इसका एक बेहतर विकल्प हैं। आइआइटी दिल्ली की शोधार्थी दिव्या कौशिक को सर्वश्रेष्ठ शोधपत्र के लिए सम्मानित किया गया है।


दिव्या कौशिक को अमेरिका के लॉस वेगास में आयोजित की गई मैग्नेटिज्म एंड मैग्नेटिक मैटेरियल कांफ्रेंस, 2019 में न्यूरल नेटवर्क इंप्लीमेंटेशन विषय पर सर्वश्रेष्ठ शोधपत्र प्रकाशित करने के लिए प्रथम स्थान मिला है। यह कांफ्रेंस अमेरिकन भौतिक विज्ञान संस्थान की तरफ से आयोजित किया गया था। आइआइटी पदाधिकारियों ने बताया कि दिव्या ने यह शोध पत्र 2019 में प्रस्तुत किया थालेकिन आयोजन का परिणाम अब घोषित किया गया है। दिव्या आइआइटी के असिस्टेंट प्रोदेबंजन भौमिक के निर्देशन में शोध कर रही हैं। पहला स्थान मिलने पर उन्हें 3500 डॉलर की ईनाम राशि व 2500 डॉलर यात्रा दिए जाने की घोषणा की गई है। इस कांफ्रेंस में 54 देशों के प्रतिभागियों द्वारा कुल 1,842 शोध पत्र प्रस्तुत किए थे।


Popular posts from this blog

मुंबई मे भारी बारीश से 15 की मौत, लोकल ट्रेनों का संचालन रोका गया

अयोध्या में बड़ा हादसाः सरयू में स्नान करते समय एक ही परिवार के 12 लोग डूबे, पुलिस व पीएसी के गोताखोर लगाए गए

एटीएस की छापेमारी: लखनऊ में विस्फोटक के साथ अलकायदा के दो आतंकी गिरफ्तार, कुकर बम मिलने से हड़कंप