गोरखपुर में जलभराव: दो घंटे की बारिश से डूब गईं शहर की सड़कें, किसानों के चेहरे पर आई मुस्कान

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में दो घंटे तक झमाझम बारिश से शहर के प्रमुख इलाकों की सड़कें डूब गईं। शहर के विभिन्न गली-मोहल्लों में घूटने तक पानी भर गया। रुस्तमपुर, बुद्ध विहार, महुई सुघरपुर, बेतियाहाता, रेती रोड, गीताप्रेस रोड, धर्मशाला चौराहा, गीताप्रेस रोड, साहबगंज, दाउदपुर के अलावा तकरीबन शहर के तमाम निचले इलाकों में जलभराव से लोग परेशान रहे। उधर राप्ती कॉम्प्लेक्स में पानी भरने से व्यापारी परेशान रहे। शहर के विभिन्न इलाकों में हुए जलभराव को दूर करने के लिए नगर निगम की टीम पूरे दिन दौड़ती रही। कई स्थानों पर पंपिंग सेट लगाकर पानी को बाहर निकाला गया। भारी बारिश होने के कारण उप नगर आयुक्त संजय शुक्ला, मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुकेश रस्तोगी, मुख्य अभियंता एवं सभी जोनल अधिकारियों ने विभिन्न स्थानों का निरीक्षण किया। जहां पर जलभराव अधिक पाया गया, वहां क्षेत्रीय सुपरवाइजर एवं अवर अभियंता को निर्देशित कर तत्काल पंपिंग सेट की व्यवस्था कराई गई। रहा जारी नगर निगम का नाला सफाई अभियान गुरुवार को भी नगर निगम का नाला सफाई अभियान जारी रहा। शहर के मोहरीपुर, जाफरा बाजार, संगम चौराहा, पैडलेगंज, सालिकग्राम, विजय चौराहा, शाहपुर गीता वाटिका आदि स्थलों पर नाला सफाई का काम कराया गया। नाला सफाई के साथ-साथ तत्काल सिल्ट का भी निस्तारण कराया गया जिससे बरसात होने पर सिल्ट फिर से नालों में न जा सके। ा
दस्तक एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान चला दस्तक एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान के अंतर्गत गुरुवार को मानस विहार कालोनी फातिमा रोड पर विशेष सफाई अभियान चलाकर दवा छिड़काव, सफाई कार्य, फागिंग एवं सेनेटाइजेशन का कार्य कराया गया। नगर आयुक्त अभिनाश सिंह ने बताया कि इसके अतिरिक्त नगर निगम में जुड़े 32 नए गांवों में भी दस्तक एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान के तहत विशेष सफाई का कार्य कराया जा रहा
बारिश से किसानों के चेहरे पर मुस्कान कृषि विज्ञान केंद्र बेलीपार के कृषि मौसम वैज्ञानिक डॉ. नितीश कुमार पांडेय ने बताया कि पूर्वी उत्तर प्रदेश में कम दबाव की वजह से बने ट्रफ एरिया के कारण जिले में बारिश हो रही है। यह सिलसिला आगामी दो से तीन दिन तक जारी रहेगा। गुरुवार को हुई बारिश किसानों के लिए काफी फायदेमंद रही। डॉ. नितीश के मुताबिक बारिश न होने से किसान काफी चिंतित थे। जो किसान धान की रोपाई कर चुके थे, उन्हें खेतों में पानी की दरकार थी। वहीं जिन किसानों ने रोपाई नहीं की थी, उन्हें भी धान रोपने के लिए खेतों में पानी चाहिए था। ऐसे में गुरुवार की बारिश ने किसानों को काफी फायदा पहुंचाया है। डॉ. पांडेय ने बताया कि मौसम विभाग से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, शुक्रवार यानी आज जिले में कहीं-कहीं हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है। आसमान में बादल छाए रहेंगे। पूर्वी हवा 10-15 किलोमीटर प्रति घंटा के रफ्तार से चलेगी। हवा में अधिकतम नमी की मात्रा 90 प्रतिशत तक रहने की संभावना है। अगर आयुक्त अभिनाश सिंह ने बताया कि गुरुवार को भी भारी वर्षा को देखते हुए सभी अवर अभियंताओं एवं सुपरवाइजरों निर्देशित किया गया कि जहां-जहां जलभराव है, उसे तत्काल पंप लगाकर दूर कराया जाय। इसमें लापरवाही बर्दाशत नहीं की जाएगी।

Popular posts from this blog

मुंबई मे भारी बारीश से 15 की मौत, लोकल ट्रेनों का संचालन रोका गया

अयोध्या में बड़ा हादसाः सरयू में स्नान करते समय एक ही परिवार के 12 लोग डूबे, पुलिस व पीएसी के गोताखोर लगाए गए

एटीएस की छापेमारी: लखनऊ में विस्फोटक के साथ अलकायदा के दो आतंकी गिरफ्तार, कुकर बम मिलने से हड़कंप