सेमिनार के माध्यम से फर्जी इंश्योरेंस पर दिल्ली पुलिस ने किया जागरुक

साक्षी सोलंकी 


     दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने कोरोना वायरस दौरान सुरक्षा के पूरे नियमों का पालन करते हुए डीसीपी उत्तरी जिला कंपलेक्स जनकपुरी दिल्ली में आईसीआईसी लाइफ इंश्योरेंस कंपनी द्वारा एक सेमिनार का आयोजन किया। सेमीनार का आयोजन 22 जुलाई से लेकर 25 जुलाई तक किया गया। इस कार्यक्रम में शालिनी सिंह ज्वाइंट कमिश्नर ऑफ वेस्टर्न रेंज व इसके अलावा द्वारका जिला में आउटर जिला में यह कोर्स आयोजित करने की स्वीकृति दी गई है।



इस कोर्स का उद्घाटन सुबोध कुमार गोस्वामी एडिशनल डीसीपी वेस्ट डिस्ट्रिक्ट द्वारा किया गया। यह कोर्स आइसीआईसी के सीनियर मैनेजर हिमांशु शर्मा की देखरेख में किया गया। दिल्ली पुलिस रिटायर्ड एसीपी वेद भूषण ने इंश्योरेंस सेक्टर में अपराधों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने सेमिनार को सम्बोधित करते हुए बताया कि किस तरह से इन अपराधों की जांच की जाए और किस तरह से सबूत इकट्ठे किए जाएं जिससे अदालत में पुख्ता तरीके से इसको प्रजेंट किया जा सके। अमानत में ख्यानत, फ्रॉड स्पूरियस कॉल्स व आईटी से जुड़े अपराध 406, 420, 468, 471, 120 बी, 34 आईपीसी व आईटी एक्ट के अपराध शामिल हैं। 



   कोरोना काल में जिस तरह इंश्योरेंस सेक्टर में वृद्धि हुई है और यह एक व्हाइट कॉलर क्राईम है।  इसकी जांच के पैमाने पर अन्य अपराधों से अलग है। कोरोना काल में इंश्योरेंस सेक्टर सफेदपोश अपराधियों के टारगेट पर है क्योंकि कोरोना से मरने वालों को की तादाद बहुत ज्यादा है। नकली कॉल सेंटर्स की बाढ आ गई है जो कि यह अपराध के माध्यम से किया जा रहा है। इस संबंध में भारत में बडे – बडे गैंग पकडे गए हैं। इस पर अंकुश लगाने की आवश्यकता है हो जिसमें पुलिस विभाग की बहुत बडी जिम्मेदारी है।


 


Popular posts from this blog

मुंबई मे भारी बारीश से 15 की मौत, लोकल ट्रेनों का संचालन रोका गया

अयोध्या में बड़ा हादसाः सरयू में स्नान करते समय एक ही परिवार के 12 लोग डूबे, पुलिस व पीएसी के गोताखोर लगाए गए

एटीएस की छापेमारी: लखनऊ में विस्फोटक के साथ अलकायदा के दो आतंकी गिरफ्तार, कुकर बम मिलने से हड़कंप