संस्था समाजसेवी कार्यों के माध्यम से सम्मान और प्रेम के साथ मानवता की सेवा में समर्पित- संत बलजीत सिंह

हरियाणाः विश्व मानव रूहानी केंद्र द्वारा कोविड-19 के दौरान मेडिकल स्टाफ की देखभाल तथा जरूरतमंदों हेतु अनेक कार्य किए गए हैं। इसके लिए ईश्वरदास सग्गू सचिव विश्व मानव रूहानी केंद्र द्वारा एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि संत बलजीत सिंह की प्रेरणा से विश्व मानव रूहानी केंद्र गांव नवांनगर, तहसील कालका, जिला पंचकूला, हरियाणा द्वारा कोविड-19 के दौरान मुख्य राहत कार्य किए गए हैं। जिसमें पी.जी.ई.ए.ई.आर. चंडीगढ़ में चिकित्सा सामग्री के साथ दो वेंटिलेटर भेंट किए गए और एक लाख से ज्यादा कुक्ड फूड पैक तथा राशन किट भेंट की गई। भोजन के पैकेट तथा मास्क बांटने में स्थानीय प्रशासन की मदद की गई।  विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा वैश्विक महामारी के फैसले की घोषणा करते ही संत बलजीत सिंह ने विश्व मानव रूहानी केंद्र को कोविड-19 के दौरान राहत कार्य करने के लिए प्रेरित किया।



    संत बलजीत सिंह ने हमें याद दिलाया कि विशेषकर इस संकट की स्थिति में जरूरतमंदों की मदद करना अत्यंत अनिवार्य     है और हमें अपने प्रयासों को आगे बढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा लोगों को सहायता की जरूरत है। हम बाहर जाकर पूरी जिम्मेदारी से उनकी मदद करें। हमारे हृदय द्रवित हो गए और स्थानीय से दूरभाष पर संपर्क बनाना शुरू कर दिया। अपनी सेवा प्रदान करने के लिए हम तुरंत स्थानीय सरकारी प्रशासन के पास पहुंचे। हम चिकित्सीय जरूरतों की आपूर्ति के लिए सरकारी अस्पतालों और कुक्ड फूड पैकेट तथा राशन किटों की आपूर्ति के लिए स्थानीय प्रशासन का सहयोग कर रहे हैं। हमने अपनी शाखाओं को आश्रय स्थलों के तौर पर प्रयोग करने हेतु सरकारी प्रसाशन को प्रस्ताव दिया और इस बात की प्रसन्नता हुई कि हमें सेवा करने का अवसर प्राप्त हुआ है। विश्व मानव रूहानी केंद्र द्वारा कोविड-19 के दौरान किए गए प्रयासों को पूरे भारत में सरकारी अस्पतालों एवं स्थानीय प्रशासन से प्रशंसा पत्र के माध्यम से और हमारी सुविधाओं की व्यक्तिगत रूप  से दौरा करके सहायता कार्यक्रम की सराहना करने से एक सशक्त पहचान मिली। वर्तमान में पीजीआई चंडीगढ़ में दो वेंटिलेटर, पीपीई किट रिक्मड मिल्क पाउडर की भेंट को स्वीकार करते हुए पीजीआई के निदेशक डॉ  जगत राम ने अपने प्रशंसा पत्र में लिखा कि ऐसे समय में जब सारा विश्व जानलेवा कोरोनावायरस कि महामारी से जूझ रहा है हम आपके इन प्रयासों की सराहना करते हैं। इसके साथ ही अन्य शाखाओं को आश्रय स्थल एकांत केंद्र के रूप में स्थानीय प्रसाशन को प्रयोग करने का प्रस्ताव दिया गया। स्थानीय शाखाएं आश्रय स्थल के रूप में सेवा दे रही हैं जिसका प्रबंध स्थानीय प्रशासन के द्वारा किया जा रहा है। स्थानीय शाखाओं को प्रशासन के अनुरोध पर भोजन पकाने तथा राशन के पैकेट तैयार करने हेतु प्रयोग किया गया। हिमाचल प्रदेश के आश्रय स्थलों के लिए कंबल और गद्दे भेंट किए गए। विश्व मानव रूहानी केंद्र में सरकार द्वारा अनुमोदित कोविड-19 के पंपलेट छपाई और विभिन्न स्थानों पर वितरित किए। सरकारी चिकित्सा कालेज और अस्पताल नागपुर के सहयोग से मेजबानी करते हुए कमलेश्वर जिला नागपुर में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। उन्होंने बताया कि विश्व मानव रूहानी केंद्र पंजीकृत एक परोपकारी एवं आध्यात्मिक संस्था है जो हरियाणा राज्य में है जिसकी पूरे भारतवर्ष में शाखाएं हैं। यह संस्था संत बलजीत सिंह जी द्वारा सिखाए गए नैतिक जीवन अध्यात्मिक और ध्यान अभ्यास आधारित कार्यक्रमों और प्रकाशन का संयोजन करती है। संस्था समाजसेवी कार्यों के माध्यम से सम्मान और प्रेम के साथ मानवता की सेवा में समर्पित।









  

 


Popular posts from this blog

मुंबई मे भारी बारीश से 15 की मौत, लोकल ट्रेनों का संचालन रोका गया

अयोध्या में बड़ा हादसाः सरयू में स्नान करते समय एक ही परिवार के 12 लोग डूबे, पुलिस व पीएसी के गोताखोर लगाए गए

एटीएस की छापेमारी: लखनऊ में विस्फोटक के साथ अलकायदा के दो आतंकी गिरफ्तार, कुकर बम मिलने से हड़कंप